Breaking News

उ०प्र० :: मुख्यममंत्री योगी आदित्यनाथ ने गुरूवार को किया थानों का निरीक्षण और दिए निर्देश ।

लखनऊ(राज प्रताप सिंह)-  मुख्यममंत्री योगी आदित्यनाथ ने गुरूवार को थानों का निरीक्षण किया और थानेदारों को पूरी सिद्दत के साथ काम करने के निर्देश दिए। अभी इन निर्देशों को जारी किए घंटाभर भी नहीं हुआ होगा की योगी ने सरकारी विद्यालयों के टीचर के लिए नया फरमान जारी कर दिया है।

सीएम की ओर से जारी किए गए निर्देश में कई सारी बातें लिखी गई है। कहा जा रहा है कि प्रदेश के सभी स्कूलों को ये निर्देश मानना जरूरी होगा। उन्होंने कहा है की सभी टीचर्स मर्यादित परिधान ही पहनें। निर्देश में कहा गया है कि टीचर्स टी शर्ट्स और जींस का प्रयोग न करें।
प्रत्येक विद्यालय में प्रार्थना हर हाल में कराई जाए। अगर विद्यालय परिसर में कहीं भी पान मसाला आदि के दाग धब्बे हो तो उन्हें हर हाल में मिटवा दें। संकुल प्रभारी भ्रमण कर इसका अनुपालन सुनिश्चित कर लें।
कोई भी शिक्षक किसी भी हाल में विद्यालय अवधि में पान मसाला, गुटका, तम्बाकू, सिगरेट आदि का प्रयोग किसी भी हाल में न करें। उन्हानें निर्देश में यह भी कहा की विद्यालय के इर्द गिर्द इसकी दुकानें संचालित न हों, अगर ऐसा है तो बंद करायें।
विद्यालय विशेष रूप से जूनियर स्कूल में अगर लड़कियों को स्कूल आने जाने में कहीं छेड़छाड़ का सामना करना पड़ता है या उन्हें कोई परेशान करता है तो प्रशासन को इस पूरे मामले से अवगत कराया जाए।
केंद्र की योजनाओं को प्रदेश में लागू करने के लिए योगी सरकार एक्शन में आ गई है। योगी, पीएम मोदी के स्वच्छता अभियान को प्रदेश में पहले अपनाना चाहते है। इसलिए बुधवार को पहले योगी ने पुलिस स्टेशनों की सफाई करवाई, फिर लोकभवन में लगे पान की पीक के दाग को जल्द से जल्द हटाने के निर्देश दिए।
जो निर्देश यूपी सीएम को ओर से दिया गया है वह निम्नलिखित है :
1. अगर विद्यालय परिसर में कहीं भी पान मसाला आदि के दाग धब्बे हो तो उन्हें कल हर हाल में मिटवा दें. संकुल प्रभारी भ्रमण कर इसका अनुपालन सुनिश्चित कर लें.
2.कोई भी शिक्षक किसी भी हाल में विद्यालय अवधि में पान मसाला, गुटका, तम्बाकू, सिगरेट आदि का प्रयोग किसी भी हाल में न करें
3. ये भी सुनिश्चित करें कि विद्यालय के इर्द गिर्द इसकी दुकानें संचालित न हों, अगर ऐसा है तो बंद करायें
4. सभी टीचर्स मर्यादित परिधान ही पहनें. टी शर्ट्स आदि का प्रयोग न करें.
5. प्रत्येक विद्यालय में प्रार्थना हर हाल में करायी जाये और घंटे का प्रयोग हो
6. विद्यालय विशेष रूप से जूनियर स्कूल में अगर लड़कियों को स्कूल आने जाने में कहीं छेड़छाड़ का सामना करना पड़ता है या उन्हें कोई परेशान करता है तो तत्काल अवगत करायें
7. विद्यालय अवधि में मोबाइल का अनावश्यक प्रयोग कदापि न करें

Check Also

DMCH डाटा इंट्री कर्मचारियों को 4 माह से वेतन भुगतान नहीं, अस्पताल प्रबंधन की संवेदनहीनता – C.I.T.U.

सौरभ शेखर श्रीवास्तव की ब्यूरो रिपोर्ट : दरभंगा मेडिकल कॉलेज अस्पताल के विभिन्न वार्डों, रजिस्ट्रेशन …