Bihar :: SDRF टीम पहुंची PDM उच्च विद्यालय, सुल्तानगंज,  आपदा से बचाव के टिप्स सिखाए गए

8

Report_ Ajit Kumar, Bhagalpur

दिनांक- 2-5-2017 को PDM उच्च विद्यालय सुल्तानगंज ,भागलपुर में SDRF की टीम ने भूकंप से बचाव हेतु महत्वपूर्ण जानकारी विद्यालयों के छात्राओं समेत प्राचार्य से लेकर शिक्षकों को आपदा संबंधी जानकारी दी गई. मुख्य अतिथि के रुप में IPS श्री भवेश मिश्रा ने प्राकृतिक आपदाओं से जुड़ी जानकारी लिया . करीब 300 बच्चियों को डिजास्टर सुरक्षा मैनेजमेंट के बारे में प्रशिक्षण दिया गया. आज के समय में गैस सिलेंडर में आग लगना आम बात हो गई है . उसके लिए एसडीआरएफ टीम के कमांडर गणेश जी ओझा नें अचानक गैस सिलेंडर में आग लगने से बचाव हेतु कुछ टिप्स सिखाए. मॉक ड्रिल एवं थ्योरी के द्वारा प्रशिक्षण दिया कि आग कैसे लगती है . अगर लग भी जाए तो घबराइए नहीं शांतिपूर्वक और धैर्यपूर्वक आग पर काबू करने का प्रयास  किया जाना चाहिए . कमांडर ने बताया कि आग एक रासायनिक प्रक्रिया है जिसमें ऑक्सीजन ,इंधन और तापमान की जरूरत पड़ती है . अगर इन तीनो तत्वों को जोड़ा जाए तो त्रिभुजाकार का रूप लेती है जो कि इसको जोड़ने से आग भयानक रुप ले लेती है और सिलेंडर में आग लग जाती है. समय से पहले आग को नहीं बुझाया गया तो आग गैस सिलेंडर के नॉब द्वारा प्रवेश कर सकता है और एक बम के जैसा विस्फोटक बन सकता है . इसलिए प्रशिक्षक गणेश जी बताते हैं कि हमेशा रसोई घर में पानी से भरा बाल्टी रखना चाहिए और एक बड़ा तौलिया भी रखें. जब भी आग लगे या संभावना हो तो इस प्रकार भीगे तौलिये से ढके की आग के सहायक एक बिंदु के तत्व का आगमन बंद हो जाए. फिर रेगुलेटर के चाबी को बंद कर दें . आग स्वत: बुझ जाएगी.

बड़े ही सौभाग्य की बात है कि विद्यालय के प्रांगण में IPS भवेश मिश्रा ने भी डिजास्टर के बारे में जानकारी हासिल करने के बाद गौरवांवित महसूस किए . बड़े ही कठिन परिश्रम से एसडीआरएफ कमांडर सहित उनकी सारी टीम के सदस्य ने बड़े ही शालीनता से बच्चियों को प्रशिक्षण दिया. विद्यालयों के बच्चियों ने आग ही नहीं बल्कि आपदा के बारे में भी भरपूर शिक्षा लिया .यह कार्यक्रम श्री गणेश जी ओझा के नेतृत्व में संपन्न हुआ. इंस्पेक्टर गणेश जी बताते हैं कि बिहार ,भारत के सबसे अधिक आपदा प्रभावित क्षेत्र है. विभिन्न प्राकृतिक आपदाओं में से बाढ़ सर्वाधिक एवं नियमित रूप से प्रतिवर्ष बाढ़ बिहार में आती है ,तथा काफी जान – माल का नुकसान भी होता है.

आपदा से रहित पूर्ण जानकारी दी गई. बताया गया आपदा क्या है , और किसे कहते हैं .आपदा वह भयंकर घटना है जो मनुष्य जीवन, जीव -जंतुओं को अस्त-व्यस्त कर देती है .इसके दो प्रकार होते हैं प्राकृतिक आपदा ऐसी घटना की चपेट में कोई स्थान विशेष या विस्तृत क्षेत्र आ सकता है , जैसे- ,भूकंप ,बाढ़ ,सुनामी ,साइक्लोन ,बादल फट जाना ,हिमपात, भूस्खलन ,अधीक गर्मी ,अधिक ठंडी ,अधिक वर्षा, सर्पदंश, आग, जहरीली गैस इत्यादि और मानव जाति द्वारा आपदा बम फेंकना, आग से टायर जलाना , रेल पटरी उखाड़ना ,गोली चलाना इत्यादि. विद्यालयों के प्रांगण में सभी ने भारत माता की जय कार करते हुए संकल्प लिया कि हम अपनी सूझ-बूझ के साथ आपदाओं से बचने का हर यथासंभव प्रयास करेंगे.