बिहार :: मदना पथ बदहाल, तीन प्रखंडो को जोड़ती है ये अंधराठाढ़ी सड़क

0

अंधराठाढ़ी : मदना सड़क प्रखंड की सबसे महत्वपूर्ण सड़कों में एक है। तीन प्रखंड अंधराठाढ़ी फुलपरास, बाबूबरही के तीन पंचायतों​ को जोड़ती है। सड़क पूर्णतया क्षतिग्रस्त हो जाने से इस पर पैदल चलना मुश्किल हो गया है। बाईक दुघर्टना आम बात हो गयी है।

मालूम हो कि इस सड़क में मदनेश्वर नाथ महादेव का प्रसिद्ध शिव मंदिर है। मदनेश्वरस्थान में उच्च विद्यालय,मध्य विद्यालय, संस्कृत उच्चविद्यालय एवं महाविद्यालय आदि शिक्षण संस्थानें है। प्रतिदिन सैकड़ों छात्र छात्राओं के अलावे श्रद्धालुओं का आना जाना रहता है। प्रखंड की आधी आबादी इस सड़क से प्रभावित होती है। मदना मदनेश्वार ,सर्रा ,सोनपताही ,कोल्हुआ ,छजना ,गिदरगंज,पलार कुल्हाड़िया परसा , बरदाही बरदाहा ,चक्करघटा, मैनी, जमैला, सैनी,रौतिनिया, बैडीया, मनोरथपटी ,खरगमा आदि दर्जनो गांव के लागों को अस्पताल, रेलवे ,बस अडडा,कॉलेज , प्रखंड व अंचल कार्यालय आदि के लिए अंधराठाढी आना पड़ता है।
वर्षो पर्व तत्कालीन सांसद देवेन्द्र प्रसाद यादव के प्रयास से यह सड़क बनी थी। सड़क जर्जर होने के कारण इस सडक में बस आदि का परिचालन बंद हो गया है। अंधराठाढी से मदना फुलपरास आने जानें का एक मात्र सड़क है।इस सड़क में मात्र टेम्पू ही यातायात का साधन रह गया है। टेम्पू से सफर करना जान जोखिम भरा है। स्थानीय मुखिया बीणा देवी ,सरपंच परमेश्वर कामत पूर्व मुखिया शोभाकान्त चौधरी, मो मोजीम अंसारी,मो कमरूज्जमा , प्रवीण कर्ण , सुरेश मेहता समेत दर्जनो सामाजिक कार्यकर्ताओ की मांग है कि इस सडक को अविलंब सुधारीकरण किया जाय । इससे लाखों लोग प्रभावित हो रहे है।
इस संवंध में प्रखंड विकास पदाधिकारी आलोक कुमार शर्मा ने पूछने पर बताया कि अंधराठाढी मदना आरईओ सडक है । इसके नवीकरण हेतु आरईओ विभाग को लिखा जायेगा। जल्द ही इस सड़क का सुधारीकरण होगा।