नागरिक विमानन सेवा का शिक्षाविदों ने भी किया स्वागत

24

दरभंगा : दरभंगा हवाईअड्डा से नागरिक विमानन सेवा शुरू होने के साथ ही एक ओर जहां राजनैतिक लोगों द्वारा विचार प्रस्तुत किये जा रहे हैं। वहीं दूसरी ओर शिक्षाविदों द्वारा भी इस संबंध में विचार प्रस्तुत कर कई अनछुए पहलुओं पर प्रकाश डाला जा रहा है।

शिक्षाविद श्याम किशोर राय ने कहा कि दरभंगा में उड्डयन के जन्मदाता महाराजाधिराज के सपनों को विस्तार मिला है। दूरद्रष्टा महाराजा कामेश्वर सिंह की भावना भारत में अब आम लोगों के सेवा में लगाई गई है।

सनद रहे इस एयरपोर्ट में 1913 से 1962 तक महाराजा का विमान परिचालन होता था। इस एयरपोर्ट पर भारत के प्रथम राष्टÑपति डॉ रोजेन्द्र प्रसाद और चार-चार प्रधानमंत्रियों का आगमन हो चुका है। कालांतर में यह 1962 में चीन युद्ध के समय वायुसेना के अधीन कर दिया गया। आज यह हवाईअड्डा वायुसेना के साथ-साथ नागरिक विमानन सेवा का भी केंन्द्र बन गया है।