Breaking News

मधुश्रावणी का पावन पर्व शुभांरभ, नव विवाहिताओं में खुशी।

madhu-shravaniदरभंगा। मिथिलांचल का लोक पर्व मधुंश्रावणी के पहले दिन सोलहों श्रृंगार में सजी नव विवाहिता की टोली गीत गाती है। कोहबर में विषहरि बनाया जाता है। गौड़ी तैयार किया जाता है। व्रत आंरभ होने के साथ ही महिला नव दंपती को शिव तथा पार्वती की कथा सुनाकर सफल दापत्य की कामना करती है। मधुश्रावणी की पुजा के लिए नव विवाहिताए अपने मायके पहॅुच जाती है। पुजा में उपयोग होने वाली सामग्री ससुराल से आने वाले भाड़ से आता है। उसमे साड़ी और श्रृंगार पिटारी के साथ व्रती के खाने की सामग्री भी मौजूद रहता है। इस पर्व के दौरान व्रती अरवा-अरवाइन ही खाती है। नवविवाहिताए हरी साड़ी और हरी लहठी पहनती है। मधु श्रावणी में सुबह पुजा और कथा होती है और शाम को वांस की टोकरी को फूल और पत्तो से सजाया जाता है। नवविवाहिताओं की पुजा के लिए प्रतिदिन दीप जलाकर कोहवर घर में ससुराल आये समानों के साथ मैना के पत्तो पर धान का लावा रखा जाता है। उस पर दूध चढ़ाया जाता है। व्रती हर सुवह कथा सुनने के बाद ही भोजन ग्रहन करती है। यह व्रत इस वार 13 दिनों तक चलेगा।

Check Also

बिहार में जजों का तबादला, दरभंगा परिवार न्यायालय के प्रधान न्यायाधीश बने प्रमोद कुमार पंकज

डेस्क। बिहार में बड़े पैमाने पर जजों का ट्रांसफर पोस्टिंग किया गया है। ट्रांसफर पोस्टिंग …

मोहर्रम जुलूस हादसा :: हाई टेंशन तार की चपेट में आया ताजिया, करंट लगने से दर्जनों लोग झुलसे

    डेस्क। बिहार के अररिया में मोहर्रम जुलूस के दौरान बड़ा हादसा हो गया …

दरभंगा मद्य निषेध को मिली बड़ी कामयाबी, 51 लाख रूपये के 421 कार्टून विदेशी शराब लदे ट्रक को पकड़ा, कार एवं पिकअप को भी किया जप्त

  सौरभ शेखर श्रीवास्तव की ब्यूरो रिपोर्ट। दरभंगा जिलाधिकारी के निर्देश के आलोक में सहायक …