Breaking News

बिहार :: उत्क्रमित माध्यमिक विद्यालय राघोपुर ड्यौढ़ी में छात्रों व अभिभावकों ने की तालाबंदी, शिक्षकों की कमी एवं साईकिल पोशाक सहित अन्य राशियों के भुगतान नहीं होने से थे आक्रोशित

दरभंगा : मनीगाछी मे शिक्षकों की कमी से आक्रोशित उत्क्रमित माध्यमिक विद्यालय, राघोपुर ड्यौढ़ी के छात्र/छात्राओं, अभिभावकों, राजनीतिक पार्टी के नेताओं, जनप्रतिनिधिओं एवं स्थानीय लोगों ने शनिवार को विद्यालय में तालाबंदी कर अध्यापन कार्य को पूर्णतः बाधित कर दिया। दिन के करीब साढ़े दस बजे की गई तालाबंदी बी ई ओ कृष्ण कुमार के पहुंचने एवं डी ई ओ से मिले टेलीफोनिक पर विशेष व्यवस्था के तहत तत्काल तीन शिक्षकों की प्रतिनियुक्ति करने के आश्वासन के बाद करीब दो बजे स्कूल का ताला खोला गया। 

इस बीच आक्रोशित लोगों ने अध्यापन कार्य कर रहे शिक्षकों को भी अध्यापन कक्ष में ही बंद कर दिया। बंद में शामिल लोग विभागीय अधिकारियों के हस्तक्षेप एवं अतिशीघ्र शिक्षकों की पदस्थापना, वर्ष 15-16 के साईकिल एवं पोशाक राशि के वितरण की मांग पर अड़े हुए थे। विद्यालय को बंद करने में स्थानीय जनप्रतिनिधि एवं राजनीतिक दलों के लोग भी शामिल थे।बंद की अगुवाई करने वालों में बीजेपी नेता गौड़ी शंकर झा, जदयू नेता रामसोगारथ महतो ,पूर्व मुखिया श्रवण कुमार नायक, वार्ड सदस्य सुकुमारी देवी, जगदीश राय, अभिभावक योगेन्द्र झा, उपेन्द्र यादव,मो कैशर,शेख तमन्ना, मोहन पासवान,जीवेश्वर मंडल, जयप्रकाश राम, हरिनारायण साहु, अशोक सहनी तथा छात्रा तुलसी, सपना, मो कैफे,जुली सहित अन्य सैकड़ों लोग शामिल थे।बंद समर्थकों के साथ डी ई ओ के निर्देश पर विद्यालय पहुंचे बी ई ओ ने लोगों की मांगों के अनुरूप मध्य विद्यालय,दहौड़ा के मो फैजुल्लाह खान,मध्य विद्यालय, चक्का के प्रदीप कुमार यादव एवं प्राथमिक विद्यालय बाजितपुर के राम विनय विमल को नए पदस्थापन तक के लिए प्रतिनियुक्त कर दिया।वर्ष 15-16की साईकिल एवं अन्य मदों की विद्यालय खाता में एक वर्ष पूर्व आयी राशि के वितरण के संबंध में जब बी ई ओ कृष्ण कुमार ने प्रभारी प्रधानाध्यापक राम बिनोद ठाकुर से भुगतान नहीं किए जाने के बाबत जानकारी मांगी तो प्रधानाध्यापक ने इसका सार्थक जबाब नहीं दिया।बी ई ओ ने तत्काल इसका भुगतान कर उपयोगिता देने का निर्देश दिया।बी ई ओ कृष्ण कुमार यादव द्वारा सभी समस्याओं के समाधान के बाद विद्यालय में अमन-चैन का माहौल कायम हुआ।

ज्ञात हो कि वर्ष 2011में इस विद्यालय को अपग्रेड कर माध्यमिक स्तर का दर्जा विभाग की ओर से दिया गया है। माध्यमिक स्तर की दो कक्षाओं में वर्ग 9 में 283 एवं वर्ग 10 में 211कुल 494 छात्र/छात्राएं नामांकित हैं।494बच्चों के लिए मात्र चार शिक्षक कार्यरत हैं। कार्यरत शिक्षकों में सामाजिक विज्ञान, गणित, हिंदी एवं उर्दू के शिक्षक शामिल हैं। जबकि अंग्रेजी, विज्ञान तथा संस्कृत जैसे महत्वपूर्ण विषयों के शिक्षकों की पदस्थापना सात वर्षों के बाद भी नहीं की जा सकी है। माध्यमिक स्तर का दर्जा मिलने के बाद विगत सात वर्षों में परीक्षा में शामिल होने वाले बच्चों में 60 प्रतिशत से अधिक बच्चे इन्हीं विषयों में असफल होते आ रहे हैं। विज्ञान, गणित एवं संस्कृत विषय के शिक्षकों की पदस्थापना के लिए पंचायत के मुखिया दीपिका नायक, पूर्व मुखिया श्रवण कुमार नायक, विद्यालय के प्रभारी प्रधानाध्यापक तथा स्थानीय जनप्रतिनिधियों ने भी विभागीय अधिकारियों को दर्जनों पत्रों के माध्यम से स्मारित किया।


इस बीच गत वर्ष 11जुलाई 2018को विद्यालय परिसर में जिलाधिकारी के कार्यक्रम में भी लोगों ने सामूहिक रूप से शिक्षकों की कमी से बच्चों को हो रही दिक्कतों की ओर आकृष्ट किया था। जिलाधिकारी ने भी इसे गंभीरता से लेते हुए सम्बद्ध अधिकारी को शिक्षकों की कमी को दूर करने का निर्देश दिया था।गत वर्ष सितंबर माह में‌ विद्यालय की जांच में आए जिला शिक्षा पदाधिकारी को भी इस ओर ध्यानाकृष्ट किया गया था। लेकिन आश्वासन के सिवा गत सात वर्षों में कुछ नहीं मिला। विभागीय अधिकारियों की उपेक्षा से आजिज और अपने बच्चों के भविष्य के लिए चिंतित अभिभावकों ने धैर्य खोकर शनिवार को विद्यालय में तालाबंदी कर अध्यापन कार्य को पूर्णतः बाधित कर दिया।

Check Also

प्रखंडों में टीएचआर वितरण में गड़बड़ी पाई गई तो नपेंगे बाल विकास परियोजना पदाधिकारी – डीएम दरभंगा

डेस्क : दरभंगा समाहरणालय अवस्थित अम्बेडकर सभागार में जिलाधिकारी डॉ. त्यागराजन एस.एम. की अध्यक्षता में …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *