Breaking News

118 साल से बंगाली पद्धति से वीणापाणि क्लब में होती है दुर्गापूजा

डेस्क : बंगाली टोला स्थित वीणापाणि क्लब में मां का पट शुक्रवार को खुला। बंगाली पद्धति से पूजा होने के कारण यहां छह पूजा को ही पट खोले जाने की पुरातन परंपरा है।

बंगाली सोसाइटी के लोगों के अलावा स्थानीय लोग भी मैया के दर्शन करने को आतुर दिखे। पट खुलते ही दुर्गा मैया के जयकारे से परिसर गुंजायमान हो उठा। वर्ष 1891 से यहां लगातर पूजा हो रही है।

इस वर्ष क्लब के भवन को नया स्वरूप दिया गया है। परिसर में मेले के लिए स्टॉल लागये जाने की तैयारी भी अंतिम चरण में है।

क्लब में आयोजित होने वाले कार्यक्रम की खासियत यह है कि यहां पंडित भी कोलकाता से ही आते हैं। मैया की मूर्ति बनाने वाले मूर्तिकार बंगाल से मंगवाये जाते हैं। ढ़ोल-नगाड़े का संगीत यहां की विशिष्टता है।

Check Also

दर दर की ठोकरे खा रहे बुजुर्ग, नही हो रहा विश्वविद्यालय थाना में एफआईआर दर्ज

मामले को अकिंत करने के बजाय उलझाने में लगे है विश्वविद्यालय थाना दरभंगा। विश्वविद्यालय थाना …