Breaking News

सीएम योगी के पास विभाग बढ़े, चार मंत्रियों का कद बढ़ा

राज प्रताप सिंह (लखनऊ ब्यूरो) :: राज्यपाल राम नाईक ने सांसद चुने गए यूपी के तीनों कैबिनेट मंत्रियों के इस्तीफे मंजूर कर लिए हैं। इनमें पशुधन, लघु सिंचाई एवं मत्स्य विभाग के मंत्री एसपीएस बघेल, महिला कल्याण, परिवार कल्याण, मातृ एवं शिशु कल्याण एवं पर्यटन विभाग की मंत्री प्रो. रीता बहुगुणा जोशी और खादी एवं ग्रामोद्योग, रेशम उद्योग, वस्त्रोद्योग, सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्यम तथा निर्यात प्रोत्साहन के मंत्री सत्यदेव पचौरी शामिल हैं। इनके रिक्त विभागों को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के प्रस्ताव पर बांट दिया है। विभाग बंटवारे की अधिसूचना सोमवार को ही जारी कर दी है। विभागों में रीता बहुगुणा के दो विभागों महिला कल्याण और पर्यटन विभाग को मुख्यमंत्री को उनके वर्तमान विभागों के अतिरिक्त आवंटित किया है। इसके साथ ही मुख्यमंत्री के पास विभागों की संख्या 36 से बढ़कर 38 हो गई है। मुख्यमंत्री के पास पहले से गृह, आवास, राजस्व, खाद्य एवं रसद, खनन, कर निबंधन, कारागार, गोपन जैसे प्रमुख विभागों सहित 36 विभाग पहले से हैं। अब दो और विभाग मिलने से उनके पास विभागों की संख्या बढ़कर 38 हो गई है।  राज्यपाल ने मुख्यमंत्री के प्रस्ताव पर ही मंत्री लक्ष्मी नारायण चौधरी को पशुधन एवं मत्स्य विभाग, मंत्री धर्मपाल सिंह को लघु सिंचाई विभाग, मंत्री सिद्धार्थ नाथ सिंह को परिवार कल्याण, मातृ एवं शिशु कल्याण विभाग और मंत्री सतीश महाना को खादी एवं ग्रामोद्योग, रेशम उद्योग, वस्त्रोद्योग, सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्यम एवं निर्यात प्रोत्साहन विभाग का चार्ज उनके वर्तमान विभागों के चार्ज के साथ-साथ अतिरिक्त चार्ज रूप में आवंटित किया है। 
चार मंत्रियों के पास और बढ़ गए विभाग
अतिरिक्त विभाग मिलने से मंत्रिमंडल विस्तार होने तक इन चारों मंत्रियों का कद और बढ़ गया है। इन मंत्रियों में चौधरी लक्ष्मीनारायण चौधरी के पास दुग्ध विकास, धर्मार्थ कार्य, संस्कृति, अल्पसंख्यक कल्याण पहले से हैं। अब पशुधन और मत्स्य दो विभाग और बढ़ गए हैं। इस तरह इनके पास कुल छह विभाग हो गए हैं। इसी तरह सिद्धार्थ नाथ सिंह के पास पहले से केवल चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग ही है। अब इसी से जुड़े दो और विभाग परिवार कल्याण व मातृ शिशु विभाग मिलने से इनके पास विभागों की संख्या बढ़कर तीन हो गई है। सतीश महाना के पास भी औद्योगिक विकास विभाग पहले से ही है। अब इनको खादी एवं ग्रामोद्योग, रेशम उद्योग, वस्त्रोद्योग, सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्यम व निर्यात प्रोत्साहन मिलने से उनके पास भी विभागों की संख्या एक से बढ़कर छह हो गई है। धर्मपाल सिंह के पास सिंचाई और सिंचाई (यांत्रिक) ये दो विभाग पहले से हैं। अब उनको लघु सिंचाई भी मिल गया है। इस तरह उनके विभागों की संख्या भी बढ़कर तीन हो गई है। 

Check Also

प्राकृतिक छटा पर जेसीबी मशीन का कहर

चकरनगर/इटावा। ऊंचे टीले और कंटीली झाड़ियों को संजोए रखने वाला चकरनगर बीहड़ क्षेत्र धीरे-धीरे प्राकृतिक …