Breaking News

फर्रुखाबाद के बहादुर बच्चों को मुख्यमंत्री ने दिया अपने घर का तोहफा

– मुख्यमंत्री ने बहादुर पुलिस कर्मियों को सम्मानित करने के दौरान की घोषणा- तार काटने वाली बहादुर अंजली के परिजनों को 51 हजार का पुरस्कार
– घायल बदमाश की बेटी के पालन-पोषण के लिए सरकार करेगी हर संभव मदद
– गांव के घायल अनुपम दुबे को भी 50 हजार की आर्थिक मदद
-मारे गए बदमाश सुभाष बाथम की बच्ची गौरी को दिया सुमंगला कन्या योजना का लाभ
– बदमाश की बेटी बच्ची गौरी के परवरिश का पूरा खर्च उठाएगी सरकार
– पुलिस कर्मियों को दिया 10 लाख रुपये का चेक व प्रशस्ति पत्र
– पूरे गांव को पाइप से पेयजल व गांव के सभी गरीबों को सीएम आवास व शौचालय मिलेगा

राज प्रताप सिंह
लखनऊ ब्यूरो।मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने फर्रुखाबाद के ग्राम करथिया में मारे गए बदमाश सुभाष बाथम द्वारा बंधक बनाए गए बच्चों के परिवार को मुख्यमंत्री आवास योजना के तहत मकान देने की घोषणा की है। इसी के साथ उन्होंने मारे गए बदमाश की बच्ची गौरी की भी परवरिश सरकारी खर्चे पर करने की घोषणा की। उन्होंने फर्रुखाबाद के जिला प्रशासन को आदेश दिए कि तीन दिन के भीतर ग्राम करथिया के गरीबी रेखा के नीचे बसर करने वाले ग्रामीणों को मकान व शौचालय देने के साथ ही सड़क, नाली, खड़ंजा और पाइल पेयजल के लिए पूरा प्रस्ताव बनाकर भेजें।मुख्यमंत्री ने इस मौके पर कानपुर रेंज के आईजी मोहित अग्रवाल के नेतृत्व में बच्चों को मुक्त कराने वाली फर्रुखाबाद पुलिस की एसओजी के साथ ही पूरी टीम को सम्मानित किया। उन्हें प्रशस्ति पत्र दिए गए और दस लाख रुपये की धनराशि का चेक भी दिया गया। मुख्यमंत्री ने इस मौके पर पुलिस अधिकारियों को सीख देते हुए कहा कि आपदा प्रबंधन के गुर पाठययक्रम में भी शामिल किए जाने चाहिए। यह जरूरी है कि आम लोग भी सीखें कि आपदा के वक्त क्या करना है। उन्होंने बंधक बनाई गई बच्ची अंजली की सराहना करते हुए कहा कि जैसे अंजली ने साहस का परिचय दिया। वैसे ही अन्य ग्रामीणों को भी सूझबूझ दिखाने के लिए तैयार होना चाहिए। 

– गांव चौकीदार व बीट सिपाही की बड़ी जिम्मेदारी

उन्होंने कहा कि यह भी देखना होगा कि आखिर गांव में कोई मकान बनवा रहा है तो उसकी मंशा क्या है? कैसे वह बेसमेंट बनवा ले रहा है। उसकी पिछली हिस्ट्री क्या है। यह देखना प्रशासनिक अमले, गांव के चौकीदार व बीट सिपाही की जिम्मेदारी है। यह भी सुनिश्चित करना होगा।सीएम ने घटना के रोज का पूरा क्रम बताते हुए कहा कि मैं गोरखपुर में था। मेरा बहुत वयस्त कार्यक्रम था। मुझे 6.30 बजे सूचना दी गई कि फर्रुखाबाद के गांव में एक बदमाश ने बच्चे को बंधक बना लिया है। मैंने अपने सारे कार्यक्रम रद्द कर दिए और क्राइसेस मैनेजमेंट कमेटी की बैठक बुलाई। मैंने तुरंत डीजीपी और एसीएस गृह अवनीश अवस्थी से बात की और कहा कि तुरंत वरिष्ठ अधिकारियों को मौके पर भेजना जाना चाहिए। मैंने आईजी रेंज मोहित अग्रवाल से भी बात की और उन्हें तुरंत मौके पर भेजा। मैंने सख्त हिदायत दी कि क्या योजना बनेगी देख लीजिए और हां, किसी भी कीमत पर बच्चों को नुकसान न होना चाहिए, ऐसी रणनीति बनाई जाए।


– प्रधानमंत्री और अमित शाह ने फोन कर ली जानकारी

मुख्यमंत्री ने कहा कि न केवल वह खुद गांव के गरीबों के लिए चिंतित थे बल्कि देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का भी फोन उनके पास आ गया। उन्होंने भी कहा कि प्रधानमंत्री ने कहा कि जो भी मदद हो मांगने में हिचकिएगा नहीं। चाहे एनएसजी कमांडों या फिर कुछ और आप गृह मंत्री से बात कर लीजिए और बच्चों को कुछ नहीं होना चाहिए।मुख्यमंत्री ने कहा कि वह पल-पल की स्थिति पर नज़र रख रहे थे। तभी केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह जी का फोन आ गया। उनसे एनएसजी भेजने की बात कही गई तो तुरंत ही आधा घंटे में एनएसजी रवाना हो गई। हमें उन्हें सेफ पैसे देना था।मुख्यमंत्री ने कहा कि जिस मंसूबे से अपराधी ने सिलेंडर बम तैयार किया। बारुद एकत्र किए। यह घटना पुलिस के लिए एक केस स्टडी हो सकती है। ऐसी घटनाएं न हों, इसके लिए पुलिस को तैयार रहना होगा। उन्होंने कहा कि जिस जांबाजी से पुलिस टीम ने काम किया उसके लिए उन्हें बधाई। इसके बाद मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने एक-एक कर सभी बच्चों को स्कूल बैग, क्रिकेट बैग, फुटबाल, वालीबॉल, किताबें देकर सम्मानित किया। साथ ही उनके परिजनों को भी शाल देकर सम्मानित किया गया।

Check Also

प्राकृतिक छटा पर जेसीबी मशीन का कहर

चकरनगर/इटावा। ऊंचे टीले और कंटीली झाड़ियों को संजोए रखने वाला चकरनगर बीहड़ क्षेत्र धीरे-धीरे प्राकृतिक …