Breaking News

जिलाधिकारी से सुषमा प्रसाद के पति-पुत्र ने लगाई न्याय की गुहार

देखें वायरल वीडियो

सौरभ शेखर श्रीवास्तव की ब्यूरो रिपोर्ट दरभंगा : अललपट्टी-दोनार के बीच संचालित हेरीटेज हॉस्पिटल में जान बूझकर की गयी लापरवाही की वजह से 26 जून को सुषमा प्रसाद की मौत हो गयी. इलाज के नाम पर लगभग एक लाख रुपया लेने के बाद मृतका का शव सुपुर्द किया गया.

समाहरणालय के पंचायती राज विभाग में प्रधान लिपिक सह मदारपुर निवासी माया शंकर प्रसाद ने प्रभारी डीएम सह डीडीसी तनय सुल्तानिया से यह शिकायत की है. उन्होंने अपनी शिकायत के साथ शपथ पत्र एवं कई साक्ष्य भी दिये हैं. पूछे जाने पर प्रभारी डीएम सह डीडीसी ने बताया कि मामला गंभीर है. डीएम अभी जिला से बाहर है. उनके आने पर आवेदन पर विचार किया जाएगा.

मोनल और मायाशंकर

माया शंकर ने कहा है कि किडनी रोगी मरीज को हार्ट अटैक की सूई डोबूसीन चला दी गयी, जिससे मरीज कीजान चली गयी इलाज एवं दवा के नाम पर लगभग एक लाख रुपया वसूलने के बाद लाश दी गयी. इस दौरान अभद्र व्यवहार किया गया, बेहतर इलाज के लिए रेफर करने के बजाय मोटी रकम बनाने के लिए रोगी को रोक रखा गया.

Vikash Bhawan Darbhanga

आवेदक ने प्रभारी डीएम से कहा है कि जरूरत से अधिक दवाओं का प्रयोग करने के साथ गलत इलाज की वजह से जब हालत बिगड़ गयी,

संवेदनहीन अस्पताल कर्मी प्रियंका ने मृतक के परिजनों से की गाली-गलौज

तब हॉस्पिटल की महिला कर्मी प्रियंका के हवाले कर डॉ नीरज इलाज बीच में ही छोड़कर निकल लिये. उपलब्ध साक्ष्य के आधार पर उच्च स्तरीय जांच (मेडिकल टीम की निगरानी में) की प्रधान लिपिक ने मांग की है।

Polytechnic Guru Darbhanga
Advertisement
Advertisement

Check Also

विश्व दिव्यांगता दिवस की पूर्व संध्या पर पुअर होम दरभंगा में कार्यक्रम आयोजित

सौरभ शेखर श्रीवास्तव की ब्यूरो रिपोर्ट दरभंगा : राष्ट्रवादी सोच पर आधारित सक्षम संस्था के …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *