Breaking News

आखिर कौन करेगा खनन माफियाओं पर कार्यवाही ? प्रशासन ने बाँधी गांधारी पट्टी

राम किशोर रावत (माल/लखनऊ):: जहां एक तरफ मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ अवैध खनन कराने वाले खनन माफियाओं के विरुद्ध सख्त से सख्त कार्यवाही करने का आदेश दे रहे हैं वही माल इलाके के थरी पंचायत में दो महीने से खनन माफियाओं द्वारा कई बीघे जमीन का सीना चीर करके आदर्श जलाशय में तब्दील कर दिया गया है।अब इस जमीन पर किसान कोई भी फसल नहीं उगा सकता है, जिम्मेदार जानबूझकर अनजान बन रहे हैं। अखिर  कौन करेगा इस खनन माफियाओं के विरुद्ध कार्यवाही।
 माल इलाके के थरी गांव निवासी धीरेंद्र व मंझू व संजू तथा टिकना खेड़ा गांव निवासी कल्लू इन किसानों की जमीन खनन माफिया द्वारा कुछ पैसे देकर खनन कराने के नाम पर लिया था। जिस जमीन पर खनन माफियाओं द्वारा सैकड़ों डंफर जेसीबी से मिट्टी को खोदकर बगल में बन रहे साहू लैंड मार्क प्राइवेट लिमिटेड में डाला गया है। इन खनन माफियाओं द्वारा धरती मां का सीना चीर करके मिट्टी निकाली जा रही है।इस कारोबार में माल पुलिस सुविधा शुल्क लेकर अपना पल्ला झाड़ रही है बाकी जमीनी हकीकत क्या है यह कोई भी जिम्मेदार देखने वाला नहीं है आखिर कौन सी ऐसी मजबूरी होती है कि इन खनन माफियाओं के विरुद्ध कार्यवाही करने वाला कोई भी जिम्मेदार सामने नहीं दिखाई देता है यह सवाल ग्रामीणों में चर्चा का विषय बना हुआ है।

    वहीं प्रत्यक्षदर्शियों की मानें तो इस खनन माफिया द्वारा 24 घंटे धरती मां का सीना चीरा जा रहा है ऐसा लगता है कि इस खनन माफियाओं को किसी प्रकार का कोई डर ही नहीं है। जबकि वहीं एक पेड़ लकड़ी का किसान काट लेता है तो माल पुलिस को जानकारी हो जाती है। लेकिन वही इस खनन माफिया द्वारा कई बीघे जमीन को आदर्श जलाशय में तब्दील कर दिया गया है इसकी जानकारी ना पुलिस विभाग के जिम्मेदार को है और ना राजस्व विभाग के किसी भी जिम्मेदार को है। जिसके चलते इन खनन माफियाओं के हौसले बुलंद होते देखे जा रहे हैं और मानकों को दरकिनार कर खुलेआम कराया जा रहा है अवैध खनन जिम्मेदार जानबूझकर बन रहे अनजान।जबकि मुख्यमंत्री द्वारा अवैध खनन कराने वाले खनन माफियाओं के विरुद्ध कठोर कार्यवाही करने का आदेश दिया जा रहा लेकिन राजस्व पुलिस विभाग की सांठगांठ के चलते खनन माफियाओं द्वारा खुलेआम कराया जा रहा है अवैध तरीके से खनन ग्रामीणों की मानें तो इसी पंचायत में साहू लैंड मार्क प्राइवेट लिमिटेड द्वारा लगभग 100 बीघा जमीन खरीदी गई है जिसमें 5 फीट गहराई तक मिट्टी ऊंची डालनी है जिस मिट्टी का ठेका खनन माफियाओं ने लेकर किसानों को कुछ पैसे का लालच देकर उनके खेत को खोदकर तालाब में तब्दील कर दिया जा रहा है। इस जमीन पर अब कोई भी किसान कोई भी फसल तैयार नहीं कर सकेगा। जिससे इन अधिकारियों के आगे मुख्यमंत्री का हवा-हवाई साबित होता देखा जा रहा है। इस संबंध में उप जिला अधिकारी मलिहाबाद से फोन पर बात की गई तो उन्होंने बताया कि 6 लोगों के विरुद्ध कार्यवाही की जा चुकी है बाकी कल टीम भेजेंगे मौके की जांच की जाएगी।

    Check Also

    प्राकृतिक छटा पर जेसीबी मशीन का कहर

    चकरनगर/इटावा। ऊंचे टीले और कंटीली झाड़ियों को संजोए रखने वाला चकरनगर बीहड़ क्षेत्र धीरे-धीरे प्राकृतिक …