Breaking News

भाजपा आरक्षण समाप्त करने का साजिश कर रही : अखिलेश

राज प्रताप सिंह, लखनऊ ब्यूरो। समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने कहा है कि भाजपा सरकार असली मुद्दों पर बात करने के बजाय उलझाने का काम करती है। दलितों-पिछड़ों के लिए संविधान में आरक्षण की व्यवस्था की गई है भाजपा साजिशन उसको समाप्त करना चाहती है। सपा संसद व बाहर जनगणना में जातियों की गणना की मांग करती आई है कि जिसकी जितनी संख्या भारी उसकी उतनी हिस्सेदारी होनी चाहिए।


अखिलेश सोमवार को पार्टी कार्यालय में मैनपुरी से 297 किमी लखनऊ तक समाजवादी विचार पदयात्रा में शामिल नौजवानों के अभिनंदन के दौरान यह बातें कही। उन्होंने कहा कि कांग्रेस ने अपने शासनकाल में जनगणना में जाति के आंकड़े नहीं दिए। उसी रास्ते पर अब भाजपा चल रही है। अगर जनगणना में जातियों की गणना हो जाए तो आबादी के हिसाब से सबको अपना हक और सम्मान मिल सकेगा।

इससे किसी को नाराजगी नहीं होगी। भाजपा हिन्दू-मुस्लिम की दीवार खड़ी कराती है। वह आपस में लड़ाई करके नफरत पैदा करती है। सपा सामाजिक रिश्तों में खाई पैदा नहीं होने देगी।
उन्होंने कहा कि भाजपाई बताते है कि सूर्य नमस्कार से बेकारी दूर हो जाएगी। अर्थ-व्यवस्था में सुधार के लक्षण नहीं दिख रहे हैं। बड़े कारखाने बिक रहे हैं। जिन संस्थानों पर गर्व था, वे बंद हो रहे हैं। समिट मीट, इन्वेस्टर्स मीट में पिछली बार 4 लाख करोड़ रुपये के एमओयू हुए थे।

कहां-कितने उद्योग लगे-कहां नौजवानों को रोजगार मिला? इसे बताया जाना चाहिए। सुझाव दिया कि बबीना बुंदेलखंड में टैंक निर्माण का कारखाना बन सकता है। राफेल बनाया जा सकता है। कानपुर, अलीगढ़ में भी सहूलियतें मिलें तो रक्षा सामग्री का उत्पादन बढ़ सकता है। समाजवादी सरकार इस दिशा में काम करेगी। एक्सप्रेस-वे के किनारे तो मंडियों की व्यवस्था होनी थी, भाजपा ने यह काम नहीं किया।


उन्होंने कहा कि महात्मा गांधी के 150वें जयंती वर्ष में समाजवादी विचार पदयात्रा 30 जनवरी को मैनपुरी से प्रारम्भ हुई थी जिसका समापन सोमवार को लखनऊ में हुआ। इसके संयोजक रावल सिंह यादव रहे। इसमें 193 नौजवान और उनके तमाम साथी शामिल थे। रावल के दो बच्चों ने अपनी गुल्लकों की धनराशि अखिलेश यादव को भेंट की। इस मौके पर माता प्रसाद पांडेय, नरेश उत्तम पटेल, राजेंद्र चौधरी आदि थे।

Check Also

प्राकृतिक छटा पर जेसीबी मशीन का कहर

चकरनगर/इटावा। ऊंचे टीले और कंटीली झाड़ियों को संजोए रखने वाला चकरनगर बीहड़ क्षेत्र धीरे-धीरे प्राकृतिक …