Breaking News

बाल विवाह :: ग्राम प्रधान अपनी ग्रामसभा में बालिकाओं के लिये बनायेंगे सुरक्षित माहौल, जागरूकता अभियान में हुए शामिल

मलिहाबाद (रामकिशोर रावत) : तहसील के सरोजनी नायडू सभागार में बाल कल्याण समिति लखनऊ व चाइल्डलाइन लखनऊ के द्वारा बाल विवाह के विरुद्ध जागरुकता अभियान ब्लाक –माल व मलिहाबाद के ग्राम प्रधानो के साथ जिला बाल सरंक्षण इकाई व महिला शक्ति केन्द्र लखनऊ के सहयोग से किया गया।


लखनऊ जनपद के जिला प्रोवेशन अधिकारी सुधाकर शरण पाण्डेय ने ग्राम प्रधानो का आवाहन करते हुए अपील की कि अपनी ग्राम प्रधान अपनी ग्रामसभा में बालिकाओं के लिये सुरक्षित माहौल बनाते हुए बाल विवाहों को रोकने में सहयोग करे । बाल कल्याण समिति के अध्यक्ष कुलदीप रंजन व सदस्य विनय कुमार श्रीवास्तव के द्वारा बाल कल्याण समिति के बारे में जानकारी दी व समिति के कार्यो के बारे में बताया । समिति की सदस्य डॉ संगीता शर्मा ने बाल विवाह होने के कारणों और उससे होने वाली हानियों के बारे में जानकारी दी तथा बाल विवाह निषेध अधिनियम 2006 के बारे में जानकारी दी।


समिति की सदस्य रिचा खन्ना ने बाल विवाह से होने वाले बालक व बालिकाओं के स्वास्थ सम्बन्धी हानियों के बारे में जानकारी दी सदस्य सुधा रानी ने बाल विवाह को रोकथाम के लिए प्रधानो को बताया की वह बाल विवाह रोकने के लिए चाइल्डलाइन 1098 , बाल कल्याण समिति व 181 पर जानकारी दे सकते है | बाल सरंक्षण इकाई की असमा जुबैर ने बच्चो से सम्बन्धित योजनाओ के तहत स्पॉन्सरशिप तथा फोस्टर केयर के बारे में बताया । महिला शक्ति केंद्र की वर्तिका शुक्ला के द्वारा बालिकाओं के लिए सरकार द्वारा चलाई जा रही योजनाओ के बारे में जानकारी दी चाइल्डलाइन के परामर्शदाता अमरेन्द्र कुमार के द्वारा चाइल्डलाइन लखनऊ की गतिविधियों के बारे में जानकारी देते हुए बताया कि बाल विवाह रोकने के लिए हेल्पलाइन लाइन 1098 का प्रयोग कर सकते है जानकारी देने वाले का नाम गुप्त रखा जाता है ।


कार्यक्रम में ग्राम पंचायत गोसवा के ग्राम प्रधान रामविलास ने प्रस्ताव रखा कि ऐसे कार्यक्रमो को ग्राम पंचायत स्तर पर नुक्कड़- नाटक के माध्यम से लोगो को जागरूक करना चाहिए । कार्यक्रम में चाइल्डलाइन के केंद्र समन्वयक अनिलकुमार,कृष्णा प्रताप शर्मा ,अनीता त्रिपाठी,नेहा व यश श्रीवास्तव आदि लोग उपस्थित रहे |

Check Also

प्राकृतिक छटा पर जेसीबी मशीन का कहर

चकरनगर/इटावा। ऊंचे टीले और कंटीली झाड़ियों को संजोए रखने वाला चकरनगर बीहड़ क्षेत्र धीरे-धीरे प्राकृतिक …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *