Breaking News

अवैध जहरीली मिलावटी ताड़ी के कारोबार पर पुलिस की हर कोशिश नाकाम, बड़े हादसे का इंतजार

मोहनलालगंज/लखनऊ (सूरज अवस्थी) :पैसा कमाने के लिए लोग इतना नीचे गिर जाते है कि उनको दूसरो की जान की भी परवाह नही रहती ।उनका ईमान धर्म सब कुछ पैसा ही होता है।आबकारी व पुलिस विभाग का काम है कि

सरकार द्वारा नामित दुकान पर ही सही ताड़ी की बिक्री हो ।। पर कुछ भ्रष्ट अधिकारियो की मिली भगत से लखन ऊ के आप पास के इलाको मे इतना अवैध मिलावटी ताड़ी बेचने का धंधा फलफूल रहा है कि प्रदेश के मुख्यमंत्रीश्री योगी आदित्यनाथ के सक्त आदेश के बावजूद अवैध जहरीली ताड़ी कारोबारियो पर पुलिस व आबकारी विभाग की क्रृपा बरस रही है।

बाराबंकी.मे जहरीली अवैध शराब पीने से अभी दर्जनों लोगों की जान जा चुकी है , बावजूद उसके भी , अवैध जहरीले मिलावटी ताड़ी का कारोबार मोहन लाल गंज सर्किल में ब्यापक पैमाने पर फल फूल है , और जिम्मेवार अनजान बने बैठे है । सरकार से लेकर जनता मे हाहाकार मचा है।। इसके विपरीत मोहनलालगंज पुलिस व आबकारी विभाग अपनी आँखो मे पट्टी चढाये हुए है उसकी नाक के नीचे फर्जी बिना परमिट कल्ली पूरब ..परवर पश्चिम व बख्खा खेडा़ आदि तमाम गाँवो में इतने बडे़ पैमाने पर अवैध जहरीली मिलावटी ताडी़ का कारोबार फलफूल रहा है। हजारों लोग रोज यह मिलावटी ताडी़ पी रहे है। ग्रामीणों से प्राप्त जानकारी के मुताबिक अकेले कल्ली पूरब से ताडी़ माफियाओ द्वारा दसो ड्रम मिलावटी जहरीली ताडी़ नगराम .समेशी आदि तमाम गाँवो मे भेज कर बेची जाती है।

यह मिलावटी ताडी़ कब मासूम लोगो की जान ले ले किसको पता। पर इस कालेकारोबार की खबर न तो चौकी इंचार्ज हरिकंश गढी को.है । न ही किसी उच्च अधिकारी को, क ई बार इस अवैध कारोबार की शिकायत क्षेत्रवासियो द्वारा पुलिस से की गयी ।पर आज तक इनपर कोई.कार्यवाही नही हुई, उल्टा शिकायतकर्ताओं को ही खरी खोटी सुननी पड़ी , और इस अवैध ताड़ी के धंधे में संलिप्त ताड़ी माफियाओ के ऊपर प्रशासनिक कार्यवाही न होने से उनके हौसले बुलंद है , वही सूत्रों से प्राप्त जानकारी से पता चला कि इन अवैध ताड़ी के धंधे में संलिप्त माफियाओ पर पुलिस विभाग , व आबकारी विभाग का संरक्षण प्राप्त है , इसीलिए इन पर कोई कार्यवाही नही होती है लगता है स्थानीय पुलिस प्रशाशन को किसी बड़े हादसे का इंतजार है ।

Check Also

प्राकृतिक छटा पर जेसीबी मशीन का कहर

चकरनगर/इटावा। ऊंचे टीले और कंटीली झाड़ियों को संजोए रखने वाला चकरनगर बीहड़ क्षेत्र धीरे-धीरे प्राकृतिक …