Breaking News

नए मंत्रियों को पहली मीटिंग में समझा दिया है क्या करें क्या नहीं : योगी

राज प्रताप सिंह : लखनऊ ब्यूरो।मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने मंत्रिमंडल विस्तार के बाद नए मंत्रियों को काम करने के ‘तौर-तरीकों से वाकिफ करा दिया। उन्होंने नए मंत्रियों को पहली मीटिंग में ही समझा दिया है कि क्या करना है और क्या नहीं।
मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बुधवार को मंत्रीमंडल विस्तार के बाद पत्रकारों से बातचीत में कहा कि अच्छा कार्य करने वालों को प्रमोट किया गया है। मंत्रिमंडल में 23 नए सहयोगी शामिल किए गए हैं। इसमें 18 नए चेहरे शामिल हैं। मुख्यमंत्री ने शपथ ग्रहण के बाद सभी नए मंत्रियों के साथ करीब दो घंटे तक एनेक्सी में बैठक की। उन्होंने कहा कि मंत्री बने सभी विधायक अनुभवी हैं। ये सभी अपने-अपने क्षेत्रों में बेहतर काम कर भी रहे हैं। अब सरकार में आ गए हैं। हमारी सरकार की पहले से ही नीति रही है कि अपराध और भ्रष्टाचार को बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। इस पर मजबूती से टिके रहे आगे भी इसी नीति पर चलेंगे।
सीएम योगी ने कहा कि दो वर्षों में प्रदेश में हर क्षेत्र में बेहतर काम हुआ। सड़क, बिजली, खेती-बाड़ी-किसानों, गरीबों सभी के लिए बहुत से काम हुए।

प्रमोट हुए मंत्रियों को मिली प्रशंसा
मुख्यमंत्री योगी ने कहा कि डॉ. महेंद्र सिंह ने 12 राष्ट्रीय पुरस्कार अपने विभाग को दिलाए। पीएम आवास योजना और मनरेगा में रिकॉर्ड रोजगार मुहैया कराया। गन्ना मंत्री सुरेश राणा ने 10 वर्षों में जितना गन्ना मूल्य का भुगतान सपा-बसपा की सरकारों के कार्यकाल में नहीं हुआ था उतना मात्र दो वर्ष में जो लगभग 72 हजार करोड़ रुपये का है, का भुगतान किसानों को कराया। बंद चीनों मिलों को चालू करवाया। पंचायती मंत्री चौधरी भूपेंद्र सिंह अपने विभाग में रिकॉर्ड 1. 60 करोड़ से अधिक शौचालय बनाने के साथ-साथ पंचायती राज्य व्यवस्था में बड़ा योगदान दिया है। होमगार्ड विभाग के मंत्री अनिल राजभर होमगार्डों के बेहतरी के साथ-साथ विभाग में बड़ा योगदान दिया। नीलकंठ तिवारी ने भी सरकार और संगठन में अच्छा काम किया इसलिए प्रमोशन हुआ।

(फेसबुक पर  Swarnim Times स्वर्णिम टाईम्स लिख कर आप हमारे फेसबुक पेज को सर्च कर लाइक कर सकते हैं।  TWITER  पर फाॅलों करें। वीडियो के लिए  YOUTUBE चैनल को SUBSCRIBE करें)

Check Also

प्राकृतिक छटा पर जेसीबी मशीन का कहर

चकरनगर/इटावा। ऊंचे टीले और कंटीली झाड़ियों को संजोए रखने वाला चकरनगर बीहड़ क्षेत्र धीरे-धीरे प्राकृतिक …