Breaking News

निरीक्षण के बाद युद्ध स्तर पर की जा रही दूर पशुआश्रय केंद्रों की बदइंतजामी

मोहनलालगंज/लखनऊ । विगत माह 17 जनवरी को पशुआश्रय केंद्र जबरौली व उतरावा सहित अन्य गांवो में बने पशु आश्रय केंद्रों  सहित ब्लाक मोहन लाल गंज का औचक निरीक्षण जिलाधिकारी अभिषेक प्रसाद द्वारा किये के बाद व अब्यवस्थाओ को लेकर जिम्मेदारों पर की गई कार्यवाही के बाद जिम्मेदारों की गहरी नींद टूटी और जिम्मेदारों द्वारा युद्ध इतर पर पशुआश्रय केंद्रों की बदइंतजामी दूर करने के प्रयास युद्ध स्तर पर किये जा रहे है ।

ये बात विकासखण्ड मोहन लाल गंज में लगने वाले जिन गांवो में पशुआश्रय केंद्र बने है और सुचारू रूप से चल रहे है उन गांवो के ग्रामीणों ने बताई और ये भी बताया कि पशुआश्रय केंद्रों में बंद बेजुबान पशुओ के लिए चारे पानी के इंतजाम सहित , पशु आश्रय केंद्रों में चरही , व खड्ढो की पटान सहित अवैध कब्जों पर से भी अवैध कब्जेदारों को जिम्मेदारों द्वारा कब्जा खाली करने का अल्टीमेटम दिया जा चुका है । और पशुआश्रय केंद्रों में बंद बेजुबानो की दवा पानी की ब्यवस्थाये भी पटरी पर काफी हद तक आ चुकी है ।

जिससे बेजुबानो को खासी राहत मिल चुकी है । ग्रामीणों ने बताया कि पशुआश्रय केंद्रों की जमीनों पर अवैध कब्जेदारी को हटाना अब भी प्रशाशन के लिए चुनौती साबित हो रहा है , और यदि पशुआश्रय केंद्रों की सुरक्षित पड़ी जमीनों पर से अवैध कब्जेदारो के विरुद्ध प्रशाशनिक हंटर चल जाये तो काफी हद तक पशुआश्रय केंद्रों में कैद बेजुबानो के लिए चारे पानी की किल्लत दूर हो सकेगी । हालांकि अवैध कब्जेदारी हटाने के विरुद्ध प्रशाशनिक कार्यवाही शुरू हो चुकी है अवैध कब्जेदारों को पशुआश्रय केंद्रों की जमीनों को कब्जामुक्त किये जाने का अल्टीमेटम भी प्रशाशनिक अप्सरो द्वारा किया जा रहा है ।

जिससे अवैध कब्जेदारो में जहां एक ओर हड़कम्प मचा हुआ है , और अवैध कब्जेदार तरह तरह के जुगाड़ भी भिड़ा रहे है । वही दूसरी ओर ग्रामीणों में चर्चा है कि यदि पशुआश्रय केंद्रों की जमीनों से अवैध कब्जेदारी प्रशाशन द्वारा कब्जामुक्त करा दी जाती है तो बेजुबानो की बहुत परेशानियां काफी हद तक कम हो सकेंगी , और बेजुबानो को रहने रहित पर्याप्त छांव सहित हरे चारे की समस्या भी काफी हद तक दूर हो सकेगी , वही कुछ ग्रामीणों में ये भी चर्चा है कि प्रशाशन पशुआश्रय केंद्रों की जमीनों पर से अवैध कब्जेदारी दूर कर सकेगा या नही ये बात आने वाला समय तय कर देगा ।

Check Also

प्राकृतिक छटा पर जेसीबी मशीन का कहर

चकरनगर/इटावा। ऊंचे टीले और कंटीली झाड़ियों को संजोए रखने वाला चकरनगर बीहड़ क्षेत्र धीरे-धीरे प्राकृतिक …