Breaking News

छेड़छाड़ के विरोध पर जिंदा जलाने की घटना पर सीएम सख्त, एडीजी ने पीड़िता का हाल जाना

लखनऊ ब्यूरो ( राज प्रताप सिंह) : सीतापुर के एक गांव में छेड़छाड़ का विरोध करने पर नाबालिग लड़की को जिंदा जलाने वाली घटना का मुख्यमंत्री ने संज्ञान लिया है। गुरुवार सुबह एडीजी राजीव कृष्ण लखनऊ के सिविल अस्पताल में भर्ती इस लड़की से मिलने पहुंचे। लड़की के परिवार वालों ने पुलिस से आरोपी को जल्दी पकड़ने की गुहार लगायी है। 

गांव में बुधवार को गोलू (22) ने छेड़खानी का विरोध करने पर 16 वर्षीय लड़की को मिट्टी का तेल छिड़क कर आग लगा दी थी। पड़ोसियों ने किसी तरह आग बुझायी लेकिन तब तक वह 70 प्रतिशत जल चुकी थी। उसे लखनऊ के सिविल अस्पताल में रिफर कर दिया गया था। इस घटना पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने पुलिस अफसरों से सख्त कार्रवाई करने को कहा।

 एडीजी से मां बोली-आरोपी को जल्दी पकड़िये

एडीजी लखनऊ जोन राजीव कृष्ण सीओ हजरतगंज अभय कुमार मिश्र के साथ सिविल अस्पताल पहुंचे। एडीजी ने डॉक्टरों से पीड़िता का हाल पूछा और समुचित इलाज के लिये किसी तरह की दिक्कत न आने की बात कही। पीड़िता की मां ने एडीजी से कहा कि आरोपी के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाये। सीतापुर पुलिस टालमटोल रवैया अपनाये हुए है।

पीड़ित परिवार ने आरोप लगाया कि मंगलवार को आरोपी गोलू ने उनकी बेटी के साथ छेड़छाड़ की थी। इसकी रिपोर्ट लिखाने जब वह सीतापुर शहर कोतवाली गई तो वहां कार्रवाई ही नहीं हुई। पुलिस ने रिपोर्ट तक नहीं लिखी थी। इससे बेखौफ होकर ही गोलू ने बुधवार को इतनी बड़ी घटना कर दी। शहर कोतवाली के इंस्पेक्टर अम्बर सिंह का कहना है कि मुकदमा दर्ज कर लिया गया है। आरोपी की तलाश की जा रही है। 


देर रात रेफर होकर पहुंचे सिविल 
सीतापुर निवासी पीड़ित पिता ने बताया कि गांव के युवक द्वारा छेड़छाड़ का विरोध और पुलिस से शिकायत करने पर बेटी को घर में घुसकर बुधवार रात जला दिया था। देर रात सीतापुर जिला अस्पताल से हजरतगंज पार्क रोड स्थित डॉ. श्यामा प्रसाद मुखर्जी अस्पताल (सिविल) रेफर किया। यहां इमरजेंसी बेड नंबर 25 पर किशोरी को भर्ती करके प्लास्टिक सर्जन डॉ. प्रदीप तिवारी इलाज कर रहे हैं।

डॉ. तिवारी ने बताया कि किशोरी 70 फीसदी तक जल गई है। उसके चेहरा, छाती, पेट, कमर और पैर का कुछ हिस्सा भी जला है। हालत स्थिर है। करीब तीन दिन तक उसकी रिकवरी के अनुसार ही आगे के बारे में बताया जा सकता है। सिविल अस्पताल के निदेशक डॉ. डीएस नेगी ने बताया कि पीड़िता का निःशुल्क इलाज प्राथमिकता पर किया जा रहा है।

(फेसबुक पर  Swarnim Times स्वर्णिम टाईम्स लिख कर आप हमारे फेसबुक पेज को सर्च कर लाइक कर सकते हैं।  TWITER  पर फाॅलों करें। वीडियो के लिए  YOUTUBE चैनल को SUBSCRIBE करें)


Check Also

भरेह थाने का देखो कमाल, हिस्ट्रीशीटर को थाने से वइज्जत वरी और साधारण को 4/25 की कार्यवाही मैं भेजा जेल

चकरनगर (इटावा), (डॉ. एस. बी. एस. चौहान) 15जुलाई। थाना भरेह के गांव हरौली बहादुरपुर में …