Breaking News

बिहार :: तेजस्वी यादव का बड़ा बयान, पाकिस्तान के साथ क्रिकेट नहीं रूकना चाहिए

पटना (संजय कुमार मुनचुन) : बिहार के विपक्ष नेता और पूर्व उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव ने भारत-पाकिस्तान के बीच क्रिकेट प्रतिबंध को लेकर कहा है कि खेल को किसी भी कारण से बंद नहीं करना चाहिए. तेजस्वी यादव ने भारत पाकिस्तान के बीच क्रिकेट मैच के लिए वकालत की है. उनका कहना है कि हमले तो पहले भी हुए थे तो अब क्यों क्रिकेट बंद होना चाहिए. 

तेजस्वी यादव का कहना है कि क्रिकेटर अपने स्प्रीट के साथ क्रिकेट खेलते हैं. और अपने देश के लिए क्रिकेट खेलते हैं. उन्होंने कहा कि पुलवामा हमले की हम निंदा करते हैं. और इसका हम जवाब भी मांग रहे हैं. लेकिन क्रिकेट को जोड़कर दोनों देशों के बीच खेल पर किसी तरह का प्रतिबंध हो यह सही नहीं है.

उन्होंने कहा कि पहले भी भारत पर आतंकी हमले हुए लेकिन फिर भी क्रिकेट खेला गया. कई बार हमले हुए प्रतिबंध भी लगे लेकिन फिर भी क्रिकेट जारी रहा. तो अब क्यों इस पर प्रतिबंध लगाई जाएगी. पहले भी हमले हुए और वर्ल्ड कप भी हुए. इसलिए अब इस पर प्रतिबंध लगाना सही नहीं होगा. वहीं, तेजस्वी यादव ने कलाकारों को लेकर भी कहा कि इन सब चीजों पर प्रतिबंध सही नहीं होगा.


वहीं, तेजस्वी यादव ने कश्मीर में धारा 370 के हटाने के मामले पर कुछ भी कहने से बचते रहे. उन्होंने इस मुद्दे पर कुछ भी कहने से मुनासिब नहीं समझा और इस मुद्दे पर कुछ भी बिना बोले सवालों को टाल गए. तेजस्वी यादव पटना एयरपोर्ट पर मीडिया से बात कर रहे थे.

इसके साथ ही तेजस्वी यादव ने बंगले विवाद पर सुशील मोदी को चुनौती दी है कि वह पहले सीएम आवास के लिए आरटीआई दाखिल कर उसकी जानकारी लें कि वहां क्या हो रहा है. जब सुशील मोदी विपक्ष नेता थे तो नीतीश कुमार के बंगले के कमरों को गिना रहे थे. उन्होंने कहा कि बंगला छोड़ने के बाद उन्होंने एक सरकारी सामान नहीं लिया सब वहीं छोड़ दिया है.

उन्होंने सुशील मोदी पर आरोप लगाया कि उनके भाई बड़े बिल्डर है. उनका सारा पैसा अपने भाई के बिल्डर कारोबार में लगा दिया है. उन्होंने आरोप लागाया कि सृजन घोटाला का सारा पैसा फ्लैट खरीदने में लगा दिया गया है.

Check Also

पटना ब्लास्ट :: इंडियन मुजाहिद्दीन के रियाज भटकल समेत 3 आतंकी के खिलाफ गिरफ्तारी वारंट जारी

डेस्क : 7 वर्ष पहले साल 2014 में बिहार की राजधानी पटना और बोधगया में …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *